ATM Full Form। ATM क्या है।
ATM Full Form। ATM क्या है।

ATM Full Form : आज के इस आधुनिक युग मे लगभग हर काम के लिए machine का सहारा लेना पड़ रहा है। machine हमारे जीवन को आधुनिकता से जोड़ने का कार्य करती है और इंसान भी इनकी तरफ झुकता चला जा रहा क्योंकि आज के दौर में में समय का बड़ा महत्व है।

और ये जो मशीनें है हमारे समय को भी बचाती है काम भी सीधा रूप से होता है और फ्रेश काम होता है तो ऐसी ही एक मशीन है ATM जिसने हर 82% लोगों को अपना दीवाना बना लिया है जी हां आज हर कोई ATM का दीवाना हो गया है उसमें खूबी ही इतनी है की आपको अपनी तरफ लुभा लेगी ।

दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से हम जाने की ATM Full Form है, एटीएम क्या है एटीएम कैसे काम करता है एवं एटीएम से जुड़ी हर एक जानकारी हासिल करेंगे इसलिए दोस्तों इस पोस्ट को आप पूरा पढ़ें जिससे आपको एटीएम से जुड़ी हर एक जानकारी हो सके।

ATM क्या है। (ATM Full Form )

ATM जिसका पूरा नाम AUTOMATED TELLER MACHINE है, यह एक प्रकार से मिनी बैंक है जी हां इसको मिनी बैंक बोल सकते है क्योंकि इस machine से आप पैसे निकाल सकते है , मिनी statement निकाल सकते है।

इससे किसी को पैसा भेज सकते है , इसमें पैसे डाल भी सकते है जी हाँ ऐसी भी एटीएम है जिसमें आप पैसे डाल सकते है ।

ATM आ जाने से लोगों को बैंकों के चक्कर नहीं लगाने पड़ रहे और ज्यादा कागजी तामझाम से भी बचे रहते है और सबसे जरूरी की बहुत कम समय मे ही पैसे निकल आते है जहां बैंक में घंटो बैठना पड़ता है कई कागजी करवाई करनी पड़ती है और भीड़ भाड़ में धक्का मुक्की भी खानी पड़ती है।

वही ATM इसके उलट है यहाँ ज्यादा समय नही लगता कोई कागजी तामझाम भी नही और ज्यादा भिड़ भी नही ATM में बस पिन डालना होता है और और जितना रुपये चाहिए वो डालो और कुछ ही second में पैसा आपके हाथ मे आ जाता है ।

अब आइये थोड़ा जान लेते है कि इस अद्भुत आविष्कार का जनक कौन है और इसकी आवश्यकता सर्वप्रथम किसको और क्यों पड़ी ?

ATM Full Form। ATM क्या है।
ATM Full Form। ATM क्या है।

Read Also – SSC Full Form। SSC क्या है। सम्पूर्ण जानकारी

ATM का इतिहास एवं अविष्कार के जनक ?

ये कहानी थोड़ी पुरानी है। इस मशीन को जिसने बनाया उनका नाम John Shepherd Barron था इनका जन्म 23 जून 1925 में भारत के sillong में 23 जून 1925 को हुआ था और मृत्यु 2010 में यूनाइटेड किंगडम में हुआ था इनके पिता एक इंजीनियर थे और माँ ओलंपिक टेनिस प्लेयर थे।

ये खुद नोट बनाने वाली कंपनी में काम करते थे वहां पर इनका काम चेक deposit का था इनको हर शनिवार को बैंक जाकर चेक deposit करना होता था क्योंकि बैंक में केवल शनिवार को ही चेक लिया जाता था तो एक दिन यानी एक शनिवार को वो बैंक में पहुचाने में let लेट हो गए और बैंक बंद हो गया जिससे चेक deposit नहीं हुआ तो उसी समय उन्हें लगा कि कोई machine होनी चाहिए ।

तो ये तो हम समझ गए कि एक machine की आवश्यकता पड़ गई तो अब ये सवाल उठता है कि जैसा हम आज ATM देखते है ऐसा ही क्यों बना कहा से आया idea ?

ATM का आविष्कार कैसे हुआ ?

उन दिनों एक chocolate key warding machine होती थी जो अपने आप chocolate देती थी उसी को देख कर उनके दिमाग मे idea आया और उन्होंने अपने आप पैसा देने वाला मशीन बनाया ।

अब यहाँ एक और महत्वपूर्ण बात जान लीजिए कि इस तरह की machine पहली बार नही बनाया गया था इससे पहले भी इस तरह की machine का निर्माण हुआ था जो कि पैसा जमा करने वाली machine जिसका नाम था bankograph इसे Luther George Simjiyn ने बनाया था।

जिसका इस्तेमाल new York city में सबसे पहले 1939 में किया लेकिन इसको 6 महीने बाद ही इसको बंद कर दिया गया था क्योंकि ज्यादा लोग इसका उपयोग नही कर पाते थे।

विश्व का पहला ATM barkless bank का था जिसे London में 27 जून 1967 को इस्तेमाल किया गया इस ATM का उदघाटन उस समय के प्रसिद्ध comedy actor रेग्वार ने किया था।

इसी से सम्बंधित एक और बात कही जाती है कि जब John Shepherd Barron ने पहली बार ATM बनाया तो जो आज हम 4 Digit का Pin डालते है उनको उन्होंने पहले 6 digit का रखा था तो उनकी wife ने कहा कि ये बहुत लंबा होगा तब उन्होंने Pin को छोटा करके 4 Digit का कर दिया जो कि आज भी हम 4 डिजिट का code डालते है।

भारत मे सबसे पहले ATM मुम्बई में 1987 में HSBC बैंक द्वारा लाया गया था।

विश्व का सबसे ऊंचाई पर स्थित ATM पाकिस्तान में है जो कि NBP यानी National Bank of Pakistan का Atm है ।

ATM को अलग अलग देशों में अलग नामो से जाना जाता है जैसे ABM यानी automatic Banking Machine, Cash Point, Mini Bank और Hole In the Well.

ATM Full Form। ATM क्या है।
ATM Full Form। ATM क्या है।

ATM Full Form और इसमें क्या चीजें है?

ATM का पूरा नाम AUTOMATED TELLER MACHINE होता है ये एक electronic telecommunication device है जिसका उपयोग नगद निकासी , fund transfer, ministatment जैसे कामों के लिए किया जाता है ।

इससे पैसे निकालने या मिनिस्टेटमेंट निकलने के लिए कर्मचारी से बात चीत या अपनी जानकारी बताने की जरूरत नहीं पड़ती

आपका खाता जिस किसी भी बैंक में होगा उस बैंक ने आपको एक विशेष प्रकार का प्लास्टिक का कार्ड दिया होगा उस कार्ड को ATM machine में swipe करने पर उस कार्ड पर बने काले रंग के पट्टी में यूजर की पूरी जानकारी होती जिसको की swipe करने पर ATM के पीछे लागे मशीन में यूजर का सारा देता यानी जानकारी स्कैन होती है।

उसके बाद ATM confirm करने के लिए एक 4 digit का number मांगता है और उसे डालने पर आपको कितने पैसे चाहिए वो डालना होता है वो डालने के कुछ पल बाद आपका पैसा atm से बाहर निकल आता है जिसे आप ले सकते है ।

अब आप जान चुके है कि ATM का full form क्या होता है तो आइए ये भी जान लेते है कि ATM के parts कौन कौन से है और उनका काम क्या है ?

ATM Full Form। ATM क्या है।
ATM Full Form। ATM क्या है।

ATM में लगने वाले Parts एवं उनका कार्य –

ATM के अंदर 2 तरह के उपकरण उपलब्ध होते है जिससे यूजर को सेवा देने में आसानी होती है और यूजर भी आसानी से सेवा लेता है तो आइए जान लेते है –

1. Input device
2. Output device

हम हम जानने का प्रयास करेंगे कि input में क्या है output में क्या है ?

तो input में 2 तरह की machine को रखा गया है
1. Card reader
2. Keypad

Card reader – हमारे पास जो ATM होता है उसके एक भाग में आप देखिएगा तो एक काले रंग का magnatic पट्टी रहता है तो जब हम card swipe करते है तो card reader जो कि ATM machine के पीछे लगा होता है वो उस पट्टी को scan करता है और पूरी जानकारी को server पर भेजता है जहां सबकी जानकारी संग्रहित होती है और जब server से आदेश आता है तब ये आपको नगद निकासी की अनुमति देता है।

Keypad – keypad के ही मदद से हम Pin जैसे विवरण डालते है या यदि हम cancel करना चाहते है, clear करना चाहते है , enter करना चाहते है तो इनसभी

Input को करने की अनुमति keypad ही देता है ।

अब बात करते है ATM के दुसरे device output की- output device में वो सभी चीजें आती है जिन्हें हम देख सकते है और छू सकते है तो ऐसे 4 चीजें ATM machine में होती जो निम्न है-

screen- जो हमारे सामने होता है जिसपर हम अपनी सारी जानकारी देखते है जिसकी मदद से ही हम देखते है कि हमे जो करना है वो कहा आ रहा पिन कब डालना है कैश कब डालना है सारी जानकारियां हमारे सामने दिखती है जिससे यूजर को काफी सहूलियत मिलती है ।

speaker – हालांकि speaker सभी ATM में नहीं होता लेकिन अधिकांश में होता है जो हमको फीडबैक4 बोल के देता है हम जो भी करते है वो हमें बोल के बताता है जिससे गलती की गुंजाइश कम होती है।

cash dispenser – जब हम सारी जानकारियां डाल देते है तो सामने एक machine के अंदर से cash जहाँ से बाहर आता है उसे ही cash dispenser कहा जाता है ।

Receipt printer- ये एक रसीद निकासी विवरण को देता है जिसमे आपको मिनी statement देखने को मिल जाता है जैसे कि अपने कितना नगद निकाला अभी कितना है ये सब जानकारियां उस रसीद में मिल जाती है ।

Read Also – FIR Full Form। FIR क्या है। सम्पूर्ण जानकारी  

निष्कर्ष – ( Conclusion )

दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से आप ने जाना कि ATM Full Form क्या होता है एटीएम का इतिहास एटीएम कैसे काम करता है एटीएम के कौन-कौन से भाग होते हैं।

दोस्तों आशा करते है आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और एटीएम से जुड़ी हुई जानकारी अच्छी लगी होगी। यदि आप को यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें तथा यदि आपके मन में कोई प्रश्न हो तो नीचे कमेंट के माध्यम से अवश्य पूछे हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here