NRC FULL FORM
NRC FULL FORM

NRC FULL FORM : हेलो दोस्तो आज के इस पोस्ट में हम NCR से जुड़ी जानकारी प्राप्त करेंगे। इस आर्टिकल के माध्यम से हम जानेंगे कि एनसीआर क्या होता है NRC FULL FORM क्या है इसके फायदे क्या क्या है तथा एनसीआर किन किन राज्यों में में लागू होता है आज NRC से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी हासिल करेंगे।

एनआरसी का फुल फॉर्म ( NRC FULL FORM ? )

एनआरसी का पूरा नाम National Register Of Citizens हैं एवं इसे हिंदी में भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर भी कहा जाता है।यह एक रजिस्टर होता है जिसमें सभी वास्तविक भारतीय नागरिकों के नाम दर्ज होते हैं।

वर्तमान समय में केवल आसम में ही ऐसा रजिस्टर बनाया गया है एवं आने वाले समय में अन्य राज्यों में भी इसे बढ़ाया जा सकता है। नागालैंड पहले से ही एक ऐसा डेटाबेस बना रहा है जिसे रजिस्टर ऑफ इंडिजीनस इनहैबिटेट्स के रूप में देखा जाता है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 20 नवंबर 2019 को संसद में कैसा ऐलान किया कि पूरे देश में एक राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर लागू की जाने वाली है।

जिसमें सभी भारतीय नागरिकों के बायोमेट्रिक विवरण एवं जनसांख्यिकी विवरण मौजूद होंगे। अमित शाह ने राज्यसभा में यह भी ऐलान किया कि एनआरसी में धर्म के आधार पर लोगों को बाहर करने का कोई भी ऐसा प्रावधान नहीं होगा।

NRC FULL FORM
NRC FULL FORM

Read Also :  VRS Full Form। VRS क्या है। Full details In Hindi

Read Also :  FIR Full Form। FIR क्या है। सम्पूर्ण जानकारी

एनआरसी से सम्बंधित जानकारी (About NRC)

आजादी के वक्त जब भारत आजाद हुआ था भारत और पाकिस्तान के विभाजन के समय बहुत ही भारी संख्या में दोनों तरफ के शरणार्थियों का स्थानांतरण भी हुआ था।

विभाजन के वक्त बहुत ही भारी संख्या में लोग असम से पूर्वी पाकिस्तान चले गए लेकिन उनकी खून पसीने से कमाई हुई जमीन संपत्ति इत्यादि सब कुछ पीछे छूट गया। जिस वजह से इनमें से बहुत से ऐसे लोगों का भारत में आना जाना हमेशा से लगा रहता था।

जिसका परिणाम यह हुआ कि पाकिस्तान से आए हुए शरणार्थियों एवं मूल भारतीय नागरिकों के बीच यह जानना मुश्किल हो जाता था कि यह व्यक्ति भारतीय है या नहीं। जिस वजह से काफी सारी मुश्किलें उत्पन्न होने लगी थी। भारतीय सरकार ने इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए वर्ष 1951 ईस्वी में एक राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर एनआरसी लागू किया।

एनआरसी क्या है (What Is NRC)

Nrc एवं National citizen register को असम में रहने वाले भारतीय नागरिकों की पहचान के लिए बनाई गई एक सूची है। इस एन आर सी का उद्देश्य राज्य में अवैध रूप से निवास कर रहे शरणार्थियों को एवं खास करके बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान करना है।

वर्ष 1986 ईस्वी में इस प्रक्रिया के लिए सिटीजनशिप एक्ट में परिवर्तन करके असम के लिए विशेष प्रावधान जारी किया गया। इसके अंतर्गत रजिस्टर में केवल उन्हीं लोगों का नाम दाखिल किया जाएगा जो 25 मार्च 1971 ईसवी के पहले ही असम के नागरिक हैं या फिर वहां के रहने वाले नागरिक उनके पूर्वज हो।

पूरी दुनिया में असम देश अकेला एक ऐसा राज्य है जहां पर अभी तक एनआरसी लागू हुआ है। वर्ष 1951 ईस्वी में राज्य में पहली बार नेशनल सिटीजन रजिस्टर को बनाया गया था। उस वक्त की गई जनगणना में शामिल किए गए प्रत्येक व्यक्ति को राज्य का नागरिक समझा गया था।

इसके बाद लोगों के द्वारा कुछ बीते हुए सालों से राज्य में एक बार फिर इस जनगणना को अपडेट करने की मांग की जा रही है। पिछले कई दशकों में भारत के पड़ोसी देशों जैसे बांग्लादेश से आ रही अवैध घुसपैठ से भारत की जनसंख्या का संतुलन बिगड़ने लगा था जिस वजह से वहां के लोग एनआरसी अपडेट करने की बात कर रहे थे।

एनआरसी से जुड़े महत्वपूर्ण घटनाक्रम (Important Developments)

1951- वर्ष 1951 मैं पहली बार एनआरसी को तैयार किया गया था।

1971- वर्ष 1971 ईस्वी में बड़ी मात्रा में बांग्लादेशी शरणार्थियों का भारत में आगमन हुआ था एवं भारत पाकिस्तान युद्ध भी हुआ था।

1970-80- वर्ष1970 से 80 ईसवी में असम में परिणाम स्वरूप अवैध शरणार्थियों और राज्य के निवासियों के बीच सामाजिक वर्ग संघर्ष एवं जातीय संघर्ष शुरू हुआ था एवं जनांकिकीय परिवर्तन भी हुआ था।

1979-85- 1979 से 50 ईसवी में असम में ऑल असम स्टूडेंट यूनियन के नेतृत्व में असम विद्रोह शुरू हुआ एवं इसको और असम गण संग्राम परिषद का भी समर्थन दिया गया।

1985- वर्ष 1950 ईस्वी में असम के लोगों ने असम समझौते पर हस्ताक्षर किया एवं 1951 ईस्वी में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के प्रकाशन को उद्धतन किया गया।

2012-13- वर्ष 2012 से 2013 तक केंद्र सरकार को एनआरसी को अपडेट करने एवं सर्वोच्च न्यायालय का हस्तक्षेप करने का निर्देश दिया गया।

31 अगस्त 2019- वर्ष 31 अगस्त 2019 में करीब 1900000 लोग बाहर हो गए एनआरसी की अंतिम सूची जारी की गई एवं एनआरसी में गड़बड़ी का आरोप भी लगाया गया।

एनआरसी लागू करने की क्या क्या आवश्यकताये हैं (Need to Implement NRC)

असम में अवैध रूप से रह रहे लोगों को सरकार ने वहां से निकालने के लिए नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन अर्थात एनआरसी अभियान को लागू किया था। यह अभियान दुनिया के सबसे बड़े अभियानों में से एक माना जाता था क्योंकि इस अभियान के अंतर्गत असम में अवैध रूप से रह रहे लोगों की पहले पहचान की जाती थी फिर उन्हें वापस उनके देश भेजा जाता था। जैसा कि अभी असम में गैर कानूनी ढंग से लगभग 50 लाख बांग्लादेशी निवास कर रहे हैं।

जिसकी वजह से आर्थिक एवं सामाजिक समस्या बनी हुई है। एनआरसी केवल उन्हीं राज्य में लागू होती है जहां से किसी अन्य देश के नागरिक भारत में आगमन करते हैं। एनआरसी की रिपोर्ट से हमें यह पता चलता है कि कौन भारतीय नागरिक एवं कौन नहीं है। यदि बाहर से आया हुआ कोई व्यक्ति भारतीय नागरिक है तो उसे वे सभी अधिकार मिलेंगे जो एक सामान्य भारतीय नागरिक को प्रदान किए जाते हैं।

नागरिकता की समाप्ति से उत्पन्न होने वाली समस्याएँ

यदि किसी व्यक्ति पर एनआरसी की सूची जारी कर दी जाए तो वह नागरिक किसी भी देश का नागरिक नहीं रह जाएगा ऐसी स्थिति में किसी राज्य में हिंसा का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है।

ऐसे लोग यदि काफी लंबे समय से आसाम में निवास कर रहे हो तो उनकी भारतीय नागरिकता समाप्त होने के पश्चात वे ना तो पहले की तरह किसी सरकार को चुनने के लिए वोट दे सकेंगे ना ही इन्हें किसी कल्याणकारी योजना का लाभ मिल पाएगा एवं इन्हें अपनी ही किसी भी तरह की संपत्ति पर इनका सारा अधिकार समाप्त हो जाएगा।

जिन लोगों के पास अपनी स्वयं की संपत्ति मौजूद है वह संपत्ति दूसरे लोगों द्वारा हड़प ली जाएगी।

यहां पर हमने आपको एनआरसी के बारे में पूरी जानकारी दे दी है। मुझे यह उम्मीद है कि आपको यह पता चल गया होगा कि एनआरसी क्या है एवं उसे कब या किस कारण से लागू किया गया था। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

Read Also :  CO Full Form। CO क्या है। Full Details In Hindi

Read Also : RTO full form। RTO क्या है। Full Details In Hindi

आखरी शब्द

दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से हमने NRC क्या है NRC FULL FORM क्या है। NRC कहां कहां और किस शहर में स्थित है तथा NRC के क्या-क्या लाभ हैं और NRC से जुड़ी हुई कई तरह की जानकारियां प्राप्त की।

दोस्तों आशा करते हैं आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और NRC से जुड़ी यह जानकारी अच्छी लगी होगी और बहुत कुछ नया सीखने को मिला होगा ।

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगती हो या कुछ भी नया सीखने को मिला हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

जिससे अन्य लोग भी एनआरसी से जुड़े सभी प्रकार की जानकारियां प्राप्त कर सकें तथा दोस्तों यदि आपके मन में इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न और नीचे कमेंट के माध्यम से वस्त्र पूछे हम आपके प्रश्नों के उत्तर अवश्य देंगे ।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here