Varsha Ritu

वर्षा ऋतु एक ऐसी ऋतु है, जो लगभग सभी लोगो की पसंदीदा होती है, क्योंकि झुलसा देने वाली गर्मी के बाद यह राहत का अहसास लेकर आती है. इस ऋतु का आनंद हम सब चाय पकोड़े खाकर मनाया करते है हम सभी को बारिश में भीगना बहुत पसंद है. हम सब बचपन मै अपने मित्रो के साथ बारिश मै खूब खेला करते थे, Varsha Ritu हमे यह सिखाती है की हमे प्रकृति का भरपूर आनंद लेना चाहिए.

about-rain-in-hindi

Varsha Ritu-वर्षा ऋतु

गर्मियों की भूमि पर मानव दुखी हो जाता है. उसे शांत करने के लिए वर्षा ऋतु आती है. सूर्य की किरणों से समुद्र का पानी गर्म होकर भाप  बनकर बादल बन जाता है बादल पहाड़ से टकराकर वर्षा करते हैं फिर पहाड़ों से लौटी हुई घटाएं मैदानों की ओर जा कर पानी बरसाती है
भारत मैं वर्षा का आगमन जुलाई के महीने मैं होता है तथा सितंबर के महीने तक वर्षा होती रहती है. यह ऋतु किसानो के लिए वरदान सिद्ध होती है. वे इस ऋतु से खरीफ की फसल (धान, मक्का, बाजरा, मूँगफली, गन्ना, आदि.) लगाते है. 

Varsha Ritu Par Nibandh

वर्षा ऋतु वनस्पतियो के लिए भी वरदान होती है. वर्षा के दौरान सब पेड़ पौधे हरे-भरे हो जाते है. वर्षा के जल से उनमे जीवन का संचार होता है. वन उपवन और बाग़ बगीचों  मैं नई रौनक सी आ जाती है. ताल, नालियों व नदियों मैं वर्षा से जल उमड़ पड़ता है. काफी दिनों से प्यासी धरती की प्यास बुझती है और भूमि का जलस्तर भी बढ़ जाता है. मेढक खुश हो जाते है और मुँह से टर्र-टर्र की आवाज़ निकाला करते है. झींगुर भी एक सुर मैं बोला करते है. वनो मैं मोर खूब नाचा करते है. पूरी धरती हरी भरी सी दिखने लगती है पूरा आसमान साफ़ दिखने लगता है.

Varsha Ritu Essay In Hindi

यह भी पढ़ें :- Teachers day quotes

वर्षा ऋतु के आने से गर्मी शांत हो जाती है. सभी लोग घर पर चाय पकोड़ो का भरपूर आनंद लेते है. छोटे बच्चे बारिश मैं बहुत मज़े से नहाते और खेलते है. गीली मिटटी की खुसबू सबका मन मोह लेती है. बारिश के बाद आसमान मैं इंद्रधनुष निकलता है जो की बहुत ही खूबसूरत होता है.

poem-about-rain-in-hindi

 पानी से भरे काले काले बादल जब भी आते हैं तो बच्चे खूब नाचते हैं किलकारियां मारते हैं इधर-उधर दौड़ते और गाते हैं. बादलों को देखकर मोर नाचते हैं पशु-पक्षी भी आनंद मनाते है. वर्षा होने पर भूमि की प्यास मिट जाती है मिट्टी दब जाती है पर कीचड़ भी हो जाता है वृक्षों पर हरे हरे पत्ते छा जाते हैं किसान  प्रसन्न होते हैं कि अब खेती हरी भरी होगी. नदियों झीलों तालाबों में पानी भर जाता है, कई बार बाढ़ आ जाती है बाढ़ से बड़ी हानि होती है. रास्ते रुक जाते हैं वर्षा में कई तरह के कीड़े उत्पन्न होते हैं.

Varsha Ritu Ke Labh (फायदे):- 

सबसे प्रथम हमें भीषण गर्मी से राहत मिलती है. वर्षा ऋतु किसानों के लिए सबसे बड़ा वरदान है. क्योंकि बहुत सारी फसलें अच्छी वर्षा पर ही निर्भर करती हैं. अच्छी वर्षा आने पर नदी नाले झरने पानी से भर जाते हैं. और लोगों को पानी की कमी से राहत मिलती है. वर्षा ऋतु में ही प्रकृति का सौंदर्य खिल जाता है. हर तरफ हरियाली ही हरियाली होती है. इसी मौसम में मोर झूम झूम कर नाचने लगते हैं, तथा पपीहा का मधुर संगीत सुनाई देता है. वर्षा ऋतु में ही कई त्यौहार मनाए जाते हैं.

Varsha Ritu Ke Nuksan (नुकसान):-

जैसे एक सिक्के के दो पहलू होते हैं. वैसे ही वर्षा ऋतु के फायदे के साथ-साथ नुकसान भी हैं. कभी-कभी अधिक वर्षा होने के कारण नदी नाले में बाढ़ आ जाती है शहर और गांव में घुसकर लोगों को काफी नुकसान पहुँचाती है. कभी-कभी लोगों के घर इसमें बह जाते हैं. और जन धन की हानि भी होती है. अधिक वर्षा से खेत पानी के बहाव में बह जाते हैं. और फसल नष्ट हो जाती है. आंधी तूफान में बहुत से घर गिर जाते हैं. कहीं-कहीं भूसंकलन भी होते हैं. लोगों को यातायात में असुविधा होती है।

यह खेलती है ढाल से ऊँचे शिखर के भाल से आकाश से, पाताल से,

झकझोर-लहराती हवा, बरसात की आती हवा.

यह शून्य से होकर प्रकट, नव-हर्ष से आगे झपट, हर अंग से जाती लिपट,

आनंद सरसती हवा, बरषत की आती हवा. 

barish-essay-in-hindi

Varsha-ritu-nibandh-in-hindi

गोविंद नारायण मिश्र के हाइकु

नीम की छाँह
धूप के संग चली
पकडे बाँह
नेह उलीचे
सागर से अंबर
धरती सींचे
गंगा निर्मल
बहती अविरल
पीती गरल
ढूंढ़ती छाँव
चिलचिलाती धूप
शीतल छाँव
रवि का स्पर्श
रात कुनमुनायी
भरी अलस
रश्म ललाम
सूरज का प्रणाम
धरा के नाम
नदी कुँमारी
डूब मरी बेचारी
पाँव थे भारी

Poems on Rain in Hindi

Poem-on-rain

वर्षा का मौसम है आया,

वर्षा का मौसम है आया,

साथ में खुशियाँ भी लाया,

आओ मिल कर नाचे गाएँ,

साथ मिल कर खुशियाँ मनाएं,

कागज़ की नाव फिर से बनाए,

गीली मिटटी का लुफ्त उठाएं,

नाच रहे है फूल और पत्ते नाच रहे हैं मोर,

बाग़ सारे हरे हो गए, खिल उठे है गुलमोरह.

कोयल की कूख है गुंजी, भोंरे है उड़ने आए,

काली घटा है छाई हुई, हर एक के मन को भाए,

बिजली की रेखा है कड़की साथ उसके धड़कन है धड़की

गूंज उठा है आसमान सारा गलियों मै बहती है धारा

सीतल हवा का झोखा है आया

वर्षा का मौसम है साथ लाया! By:- Dennis

Barish-Essay-In-Hindi

varsha-ritu-nibandh-in-hindi

बारिश मुझे प्यारी

तब लगती बारिश मुझे प्यारी
 जब थम जाए दुनिया सारी

जब टिप-टिप पानी सुनाए कहानी
कैसे करें हम बातें अपनी

जब चाँदी सी गिरती यह बूँदें

 चुभें बदन में हल्की हल्की

जब मेंढक करते टर्र टर्र दिन भर

रुके ना रात में उनकी वाणी

जब हर ओर खिलें कन्द के पौधे

लिली खिलती, फूलों की रानी

जब पानी देता बीजों को पुच्ची

केचुओं से भरती धरती

जब फफूँद फैलता चौड़ा कर सीना

और धान लटके दानों से भारी

तब लगती बारिश मुझे प्यारी

By:- Salil Chaturvedi

 

यह भी पढ़ें:- Rain Poem in English

Poem About Rain In Hindi

Varsha-Ritu

पावस ऋतु थी, पर्वत प्रदेश,

पल-पल परिवर्तित प्रकृति-वेश.

मेखलाकार पर्वत अपार,

अपने सहस द्रग-सुमन फाड़,

अवलोक रहा है बार-बार,

निचे जल मे निज महाकार,

जिसके चरणों मे पला ताल,

दर्पण-सा फैला है विशाल.

गिरि का गौरव गाकर झर-झर,

मद मे नस-नस उत्तेजित कर,

मोती की लड़ियो-से सुन्दर,

झरते है झाग भरे निर्झर.

गिरिवर के उर से उठ-उठ कर,

उच्चाकांछाओ से तरुवर,

है झाँक रहे नीरव नभ पर,

अनिमेष, अटल, कुछ चिंतापर.

उड़ गया अचानक लो भूधर,

फड़का अपार पारद के पार.

रव-शेष रह गए है निर्झर,

है टूट पड़ा भू पर अंबर.

धँस गया धरा मे सभय शाल.

उठ रहा धुआँ, जल गया ताल.

यो जलद-यान मे विचर-विचर

था इंद्र खेलता इंद्रजाल.

सुमित्रानंदन पंत

Poem On Rain

शब्द और उनके अर्थ

पावस= वर्षा ऋतु

प्राकृति-वेश = प्राकृति का रूप

मेखलाकार = करघनी के आकर की पहाड़ की ढाल

सहस = हज़ार

द्रग-सुमन = पुष्प रुपी आँखे

अवलोक = देखना

महाकार = विशाल आकर

दर्पण = आईना

मद = मस्ती

झाग = फेना

उर = दिल

उच्चाकांछाओ = ऊँचा उठने की कामना

तरुवर = पेड़

नीरव नभ = शांत आकाश

अनिमेष = एकटक

चिंतापर = चिंता मे डुबा हुआ

भूधर = पहाड़

पारद के पार = पारे के समान धवल एवं चमकीले पंख

रव-शेष = चारो ओर शांत

सभय = भय के साथ

शाल = एक पेड़ का नाम

ताल = तालाब

जलद-यान = बादल रुपी विमान

विचर = घूमना

इंद्रजाल = जादूगर

 

निष्कर्ष :-
दोस्तो इस पोस्ट के माध्यम से आप ने वर्षा ऋतु के बारे मे पढ़ा है। Varsha Ritu का महत्त्व क्या है जाना. वर्षा ऋतु पे अनेक कविता पढ़ी. भारत मे बारिश कब होती है, आदि भारत में वर्षा ऋतु से जुड़ी सभी जानकरी ग्रहण की। आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट अच्छा लगा होगा। अगर यह पोस्ट आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों तक शेयर जरूर करे।

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here